आधुनिक हिंदी साहित्य के पितामह ‘भारतेन्दु हरिश्चंद्र’

  निज भाषा उन्नति लहै सब उन्नति को मूल। बिन निज भाषा ज्ञान के मिटे न हिय को शूल॥ विविध कला शिक्षा अमित, ज्ञान अनेक प्रकार। सब देसन से लै करहू, भाषा माहि प्रचार॥ जन्मदिन विशेष : आधुनिक हिंदी के पहले रचनाकार और पितामह कहे जाने वाले भारतेन्दु हरिश्चंद्र का आज जन्मदिन हैं। उनका जन्म […]