काशी सत्संग: माया का फेर

देवर्षि नारद के मन में एक बार जिज्ञासा जगी कि इस माया की लीला आखिर है क्या? नारदजी ने अपनी यह जिज्ञासा भगवान विष्णु के समक्ष रखी। भगवान विष्णु मुस्कराए, फिर नारदजी से कहा- “उत्तर के लिए उचित समय की प्रतीक्षा करो।”
एक दिन अनायास भगवान विष्णु ने उनसे कहा- “देवर्षि आज हमारे साथ धरती पर भ्रमण के लिए चलें।” चलते हुए वे धरती के एक वन प्रांत में पहुंचे। बड़ा सुंदर स्थान था। इस स्थान के पास ही एक सुंदर सरोवर था। प्रभु की प्रेरणा और माया के प्रभाव से देवर्षि की इच्छा सरोवर में स्नान करने की हुई। जब देवर्षि सरोवर में स्नान करके बाहर निकले, तो उनका स्वरूप एक सुंदर नवयुवती का था। देवर्षि अपने पूर्व परिचय को भूल चुके थे। उनके इस स्वरूप पर वन में आखेट के लिए आए एक राजकुमार की दृष्टि पड़ी। राजकुमार ने उनके सामने विवाह का प्रस्ताव रखा, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया। दोनों का विवाह हो गया।
विवाह को एक वर्ष से अधिक समय हो चुका था। इसी बीच उनको एक पुत्र हुआ। एक दिन राजकुमार के मन में आया कि उसी सरोवर तट पर चलते हैं, जहां वह पहली बार अपनी पत्नी से मिला था। पति के साथ पत्नी भी सरोवर की ओर चल पड़ी। सरोवर तट पर पहुंच कर पत्नी के मन में स्नान करने की इच्छा हुई। राजकुमार की पत्नी जब स्नान करके सरोवर से बाहर निकली, तब वह आने पूर्व यानी नारद के रूप में थी। इधर, देर तक राजकुमार की पत्नी सरोवर से बाहर नहीं आई, तो राजकुमार ने उसे तलाशने की हरसंभव कोशिश की, पर सफलता नहीं मिली। आखिरकार राजकुमार रोता-बिलखता वापस अपने भवन लौट आया। इधर देवर्षि नारद ने देखा कि सामने वृक्ष की छांव में भगवान बैठे हुए मुस्करा रहे हैं। जब देवर्षि उनके पास पहुंचे, तो उन्होंने हंसते हुए कहा- “देवर्षि! आपको माया की लीला एवं उसके प्रभाव की अनुभूति हो गई!” देवर्षि को भी ये सारी घटनाएं याद आ गईं थीं। उन्होंने कहा- “हे प्रभु! आपके अनुग्रह से मुझे माया की अनुभूति हो गई।”
ऊं तत्सत….

Post Author: Soni

काशी पत्रिका के जरिए हमारी भाषा, संस्कृति एवं सभ्यता को सजोने-संवारने का सतत् प्रयास।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *