काशी सत्संग : पर उपदेश…

एक पंडितजी महाराज क्रोध न करने पर उपदेश दे रहे थे। वे कह रहे थे, ‛क्रोध आदमी का सबसे बड़ा दुश्मन है। क्रोध से आदमी की बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है, वह पशु बन जाता है…’ लोग बड़ी श्रद्धा से उनका उपदेश सुन रहे थे। पंडितजी ने आगे कहा,‘क्रोध चाण्डाल होता है। उससे हमेशा बचकर रहो।’
सुनने वालों की भीड़ में एक ओर एक व्यक्ति बैठा था, जिसे पंडितजी ने प्राय: सड़क पर झाड़ू लगाते देखा था। अपना उपदेश समाप्त करके जब पंडितजी जाने लगे, तब वह व्यक्ति भी हाथ जोड़कर खड़ा हो गया। लोगों की भक्ति-भावना से फूले हुए पंडितजी भीड़ के बीच में से आगे आ रहे थे। इतने में पीछे से भीड़ का रेला आया और वे गिरते-गिरते बचे! धक्के में वे सफाई वाले से छू गए। फिर क्या था! उनका पारा चढ़ गया, बोले-“दुष्ट! तू यहां कहां से आ मरा? मैं भोजन करने जा रहा था। तूने छूकर मुझे गंदा कर दिया। अब मुझे स्नान करना पड़ेगा।” उन्होंने जी भरकर उसे कोसा। असल में उनको बड़े जोर की भूख लगी थी और वे जल्दी-से-जल्दी यजमान के घर पहुंच जाना चाहते थे। पास ही में गंगा नदी थी लाचार होकर पंडितजी उस ओर तेजी से लपके।
तभी देखते हैं कि सफाई वाला उनसे आगे-आगे चला जा रहा है। पंडितजी ने कड़ककर पूछा, ‘क्यों रे! तू कहां जा रहा है?’
उसने जवाब दिया, ‘नदी में नहाने। अभी आपने कहा था न कि क्रोध चांडाल होता है। मैं उस चंडाल से छू गया, इसलिए मुझे नहाना पड़ेगा।’ पंडितजी को अब तो जैसे काठ मार गया। वे आगे एक भी शब्द न कह सके और उस व्यक्ति का मुंह ताकते रह गए। इसी लिए तुलसीदासजी ने रामायण में लिखा है-
पर उपदेश कुशल बहुतेरे, जे अचरहिं ते नर न घनेरे॥
ऊं तत्सत…

Post Author: Soni

काशी पत्रिका के जरिए हमारी भाषा, संस्कृति एवं सभ्यता को सजोने-संवारने का सतत् प्रयास।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *