काशी सत्संग: सफलता और समर्पण

मशहूर चित्रकार पिकासो एक दिन रास्ते से गुजर रहे थे, तभी एक महिला की नजर उन पर पड़ी। महिला ने उन्हें पहचान लिया। वह दौड़ती हुई उनके पास आई और बोली, ‘सर, मैं आपकी बहुत बड़ी प्रशंसक हूं और आपकी पेंटिंग्स मुझे बहुत ज्यादा पसंद है। क्या आप मेरे लिए भी एक पेंटिंग बनाएंगे।

पिकासो हंसते हुए बोले, ‘मैं यहां खाली हाथ हूं। मेरे पास कुछ भी नहीं है। मैं फिर कभी आपके लिए एक पेंटिंग बना दूंगा..!!’ लेकिन उस महिला ने भी जिद पकड़ ली, ‘मुझे अभी एक पेंटिंग बना दीजिए, बाद में पता नहीं मैं आपसे मिल पाऊंगी या नहीं।’

पिकासो ने जेब से एक छोटा सा कागज निकाला और अपने पेन से उस पर कुछ बनाने लगे। करीब 10 मिनट के अंदर पिकासो ने पेंटिंग बनाई और कहा, ‘यह लो, यह मिलियन डॉलर की पेंटिंग है।’

महिला को बड़ा अजीब लगा कि पिकासो ने बस 10 मिनट में जल्दी से एक काम चलाऊ पेंटिंग बना दी है और बोल रहे हैं कि मिलियन डॉलर की पेंटिग है। उसने वह पेंटिंग ली और चुपचाप आगे बढ़ गई। महिला के मन में चल रहा था कि पिकासो उसको बेवकूफ बना रहे हैं। इसकी परीक्षा के लिए आगे बढ़कर बाजार पहुंची और उस पेंटिंग की कीमत पता की। उसे बड़ा आश्चर्य हुआ कि वह पेंटिंग वास्तव में मिलियन डॉलर की थी…!!

वह भागी-भागी एक बार फिर पिकासो के पास आई और बोली, ‘सर आपने बिलकुल सही कहा था। यह तो मिलियन डॉलर की ही पेंटिंग है।’ पिकासो ने हंसते हुए कहा,’मैंने तो आपसे पहले ही कहा था।’ महिला बोली, ‘सर, आप मुझे अपनी स्टूडेंट बना लीजिए और मुझे भी पेंटिंग बनानी सिखा दीजिए। जैसे आपने 10 मिनट में मिलियन डॉलर की पेंटिंग बना दी, वैसे ही मैं भी 10 मिनट में न सही, 10 घंटे में ही अच्छी पेंटिंग बना सकूं, मुझे ऐसा बना दीजिए।’

पिकासो ने हंसते हुए कहा- ‘यह पेंटिंग, जो मैंने 10 मिनट में बनाई है। इसे सीखने में मुझे 30 साल का समय लगा है। मैंने अपने जीवन के 30 साल सीखने में दिए हैं!! तुम भी दो, सीख जाओगी..!!’ वह महिला अवाक् और निःशब्द होकर पिकासो को देखती रह गई!!

ऊं तत्सत…

Post Author: Soni

काशी पत्रिका के जरिए हमारी भाषा, संस्कृति एवं सभ्यता को सजोने-संवारने का सतत् प्रयास।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *