…प्रिय, तेरे सब मौन सँदेशे

मेरी तो हर साँस मुखर है, प्रिय, तेरे सब मौन सँदेशे।

एक लहर उठ-उठकर फिर-फिर
ललक-ललक तट तक जाती है,
उदासीन जो सदा-सदा से
भाव मरी तट की छाती है,
भाव-भरी यह चाहे तट भी
कभी बढ़े, तो अनुचित क्या है?
मेरी तो हर साँस मुखर है, प्रिय, तेरे सब मौन सँदेशे।

बंद कपाटों पर जाकर जो
बार-बार साँकल खटकाए,
और न उत्तर पाए, उसकी
ग्लानि-लाज को कौन बताए,
पर अपमान पिए पग फिर भी
इस डयोढ़ी पर जाकर ठहरें,
क्या तुझमें ऐसा जो तुझसे मेरे तन-मान-प्राण बँधे-से।
मेरी तो हर साँस मुखर है, प्रिय, तेरे सब मौन सँदेशे।
■ हरिवंशराय बच्चन “प्रणय पत्रिका”

Post Author: Soni

काशी पत्रिका के जरिए हमारी भाषा, संस्कृति एवं सभ्यता को सजोने-संवारने का सतत् प्रयास।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *