काशी सत्संग: उल्टा नाम जपत जग जाना…

Kashi

प्रभु का नामजप मात्र से भी वे प्रसन्न हो जाते हैं। भक्तवत्सल भगवान और उनके भक्त की ऐसी ही एक कहानी। एक गांव में एक वृद्ध स्त्री रहती थीं। उसका कोई नहीं था, वो गोबर के उपले बनाकर बेचती थी और उसी से अपना गुजारा चलाती थीं। पर उस स्त्री की एक विशेषता थी कि वह कृष्ण भक्त थीं, उठते-बैठते कृष्ण नामजप किया करती थी, यहां तक कि उपले बनाते समय भी। उस गांव के कुछ दुष्ट लोग उसकी भक्ति का उपहास करते और एक दिन तो उन दुष्टों ने एक रात उस वृद्ध स्त्री के सारे उपले चुरा लिए और आपस में कहने लगे अब देखें कृष्ण कैसे इसकी सहयता करते हैं।

सुबह जब वह उठी, तो देखती है कि सारे उपले किसी ने चुरा लिए। वह मन ही मन हंसने लगी और अपने कान्हा को कहने लगीं, “पहले माखन चुराता था और मटकी फोड़ गोपियों को सताता था, अब इस बुढ़िया के उपले छुपा मुझे सताता है, ठीक है जैसी तेरी इच्छा” यह कह उसने अगले दिन के लिए उपले बनाना आरंभ कर दिए। दोपहर हो चली तो उसे भूख लग गई, पर घर में कुछ खाने को नहीं था, दो गुड़ की डली थीं अतः एक अपने मुह में डाल पानी के कुछ घूंट ले लेटने चली गई।

भगवान तो भक्त वत्सल होते हैं, अतः अपने भक्त को कष्ट होता देख वे विचलित हो जाते हैं। उनसे उस वृद्ध साधिका के कष्ट सहन नहीं हो पाए। सोचा उसकी सहायता करने से पहले उसकी परीक्षा ले लेता हूं, अतः वे एक साधू का वेश धारण कर उसके घर पहुंच कुछ खाने को मांगने लगे। वृद्ध स्त्री को अपने घर आए एक साधू को देख आनंद तो हुआ, पर घर में कुछ खाने को न था यह सोच दुख भी हुआ, उसने गुड़ की इकलौती डली बाबा को शीतल जल के साथ खाने को दे दी। बाबा उस स्त्री के त्याग को देख प्रसन्न हो गए और जब वृद्ध स्त्री ने बाबा को अपना सारा वृतांत सुनाया, तो बाबा उन्हें सहायता का आश्वासन दे चले गए और गांव के सरपंच के यहां पहुंचे। सरपंच से कहा, “सुना है इस गांव के बाहर जो वृद्ध स्त्री रहती है उसके उपले किसी ने चुरा लिए, मेरे पास एक सिद्धि है यदि गांव के सभी लोग अपने उपले ले आएं, तो मैं अपनी सिद्धि के बल पर उस वृद्ध स्त्री के सारे उपले अलग कर दूंगा।”

सरपंच एक भला व्यक्ति था, उसे भी वृद्ध स्त्री के उपले चोरी होने का दुख था। अतः उन्होंने साधू बाबा रूपी कृष्ण की बात तुरंत मान ली और गांव में ढिंढोरा पिटवा दिया कि सब अपने घर के उपले तुरंत गांव की चौपाल पर लाकर रखें। जिन दुष्ट लोगों ने चोरी की थी, उन्होंने भी वृद्ध स्त्री के उपले अपने उपलों में मिलाकर उस ढेर में एकत्रित कर दिए। उन्हें लगा कि सब उपले तो एक जैसे होते हैं, अतः साधू बाबा कैसे पहचान पाएंगे!

दुर्जनों को ईश्वर की लीला और शक्ति दोनों पर ही विश्वास नहीं होता। साधू वेशधारी कृष्ण ने सब उपलों को कान लगाकर वृद्ध स्त्री के उपले अलग कर दिए। वृद्ध स्त्री अपने उपलों को तुरंत पहचान गई और उसकी प्रसन्नता का तो ठिकाना ही नहीं था, वह अपने उपले उठा, साधू बाबा को नमस्कार कर चली गई। जिन दुष्टों ने वृद्ध स्त्री के उपले चुराए थे, उन्हें यह समझ में नहीं आया कि बाबा ने कान लगाकर उन उपलों को कैसे पहचाना, अतः जब बाबा गांव से कुछ दूर निकल आए, तो वे दुष्ट बाबा से इसका कारण जानने पहुंचे।

बाबा ने सरलता से कहा कि “वृद्ध स्त्री सतत ईश्वर का नाम जप करती थी और उसके नाम में इतनी आर्तता थी कि वह उपलों में भी चला गया, कान लगाकर वे यह सुन रहे थे कि किन उपलों से कृष्ण का नाम निकलता है और जिनसे कृष्ण का नाम निकल रहा था उन्होंने उन्हें अलग कर दिया”।

यह है नामजप का परिणाम। अतः हमको व्यवहार के प्रत्येक कृत्य करते समय नामजप करना चाहिए। इससे हम पर ईश्वर कि कृपा होती है व संकट से बचाव होता है।

Post Author: kashipatrika

News and Views about Kashi... From Kashi, for the world, Journalism redefined

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *